Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

Passenger & Freight Services

भर्ती /न्यूज़/प्रेस विज्ञप्ति

सामान्य सार्वजनिक सूचना

विभाग/डिवीज़न

निविदाओं और अधिसूचनाएं

सम्पर्क करें/अन्य



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
बारे में

द.पू.म.रे.का यांत्रिक विभाग

1.0 द.पू.म.रे.मुख्य रूप से माल ढुलाई उन्मुख रेलवे है, जो सालाना 180 मिलियन टन लोड करता है, जिसमें औसत वैगन होल्डिंग 27000 8 डब्‍ल्‍यू यूनिट है। इस स्टॉक के रखरखाव के लिए, द.पू.म.रे.में दो प्रमुख फ्रेट डिपो हैं, जिनमें से प्रत्येक बी.एस.पी. (बिलासपुर) और बी.आई.ए. (भिलाई) में है, जिसमें बिलासपुर और भिलाई में आर.ओ.एच. की सुविधा है, जिसकी संयुक्त मासिक क्षमता 1000 8 डब्‍ल्‍यू है। वैगन रिपेयर शॉप (डब्ल्यू.आर.एस.), रायपुर में प्रति माह 500 वैगन का पी.ओ.एच. किया जाता है।

2.0 अन्य रेलवे से प्रणाली में प्रवेश करने वाले अमान्य रेकों की अधिक संख्या को देखते हुए ओपन लाइन जांच सुविधाएं अपर्याप्त हैं। द.पू.म.रे.में प्रतिदिन लगभग 30 रेकों की जांच की जाती है, जिनमें से 50% की जांच विभिन्न स्टेशनों पर भरी हुई परिस्थितियों में की जाती है। मालभाडा स्टॉक की खाली जांच, जैसा कि अनिवार्य है, अटेंडेंट सिक-लाइन्स और आर.ओ.एच. सुविधा के साथ अधिक मालभाडा जांच स्‍थलों को विकसित करके ही संभव होगा और यह तब और अधिक आवश्यक होगा जब 2024 तक आई.आर. की लोडिंग लगभग दोगुनी होकर 2024 एम.टी. हो जाएगी। फिर, द.पू.म.रे.पर होल्डिंग दोगुनी होकर लगभग 54000 वैगन हो जाएगी; आर.ओ.एच. लोड बढ़कर 2000 वैगन प्रति माह और पी.ओ.एच. लोड 1000 वैगन प्रति माह हो जाएगा। इस दिशा में, बुनियादी ढांचे के विकास के लिए निम्नलिखित आवश्यकताओं पर प्रकाश डाला जा रहा है:

2.1 ओपन लाइन मालभाड़ा जांच स्‍थल

2.1.1 नैनपुर (एन.आई.आर.) - एन.आई.आर. बल्लारशाह और जबलपुर के बीच (माल ढुलाई की दृष्टि से) अत्यंत महत्वपूर्ण लाइन पर एक जंक्शन के रूप में स्थित है।यह लाइन 477 किलोमीटर से अधिक लंबी है। आसपास के क्षेत्र में कोई माल ढुलाई जांच सुविधा नहीं है और सुरक्षा की दृष्टि से बिना जांच के इतनी लंबी दूरी पर किसी भी अमान्‍य रेक को चलाना व्यवहार्य नहीं है। बिनाकी में एक नया बिजली संयंत्र चालू किया गया है जो कोयले के अधिक आदानों को शामिल करते हुए और विस्तार की योजना बना रहा है। भविष्य में, लदान में वृद्धि के साथ, लदान के लिए लाये जाने से पहले और अधिक रेकों को माल ढुलाई जांच की आवश्यकता होगी। इसलिए, एन.आई.आर. में सिक-लाइन और आर.ओ.एच. सुविधा के साथ एक माल ढुलाई जांच सुविधा का प्रस्ताव है। इस परियोजना की अनुमानित लागत लगभग 50 करोड़ रुपये होगी।

2.1.2 शहडोल (एसडीएल)-बिलासपुर मंडल का सी.आई.सी. क्षेत्र एक महत्वपूर्ण (मुख्य रूप से कोयला) लोडिंग क्षेत्र है, जिसमें प्रतिदिन 26 से 30 रेक तक लोड और परिवहन किया जाता है। 2024 तक 2024 एम.टी.हासिल करने के लिए इसके दोगुना होने की संभावना है। इस सी.आई.सी. क्षेत्र में अमान्य रेकों की जांच की कोई सुविधा नहीं है। वर्तमान समय में, कई रेकों को अमान्य स्थिति में लोड किया जाता है और विभिन्न स्टेशनों पर लोड के तहत उनकी जांच/पुन: सत्यापन की आवश्यकता होती है। ऐसे में एस.डी.एल. में एक माल ढुलाई जांच सुविधा आवश्यक और अपरिहार्य हो जाती है। सार अनुमान में तीन जांच लाइनें, एक सिक लाइन और 35 करोड़ रुपये तक का कार्य शामिल है।

2.1.3 उसलापुर (यू.एस.एल.) - कोयला लदान के दौरान गंभीर प्रदूषण के संबंध में स्‍था‍नीय निवासियों द्वारा की गई आपत्तियों के आधार पर जनवरी 2019 तक संचालन में रहे एक पूर्ण माल शेड को बंद कर दिया गया था। इसमें कंक्रीट पाथवे और यार्ड लाइट्स के साथ दो पूर्ण-लंबाई वाली लाइनें हैं। मामूली इनपुट और परिचालन आवश्यकताओं के लिए एक अतिरिक्त लाइन के साथ, इस सुविधा को एक पूर्ण मालभाडा जांच बिंदु के रूप में विकसित किया जा सकता है। इस परियोजना की अनुमानित लागत 5 करोड़ रुपये है।

2.2 वर्कशॉप (डब्ल्यू.आर.एस.) - बढ़ी हुई लोडिंग के साथ, आवश्यकता से निपटने के लिए पी.ओ.एच. क्षमता/आउटपुट को दोगुना करके 1000 प्रति माह करना होगा। इसलिएरायपुर में ही मौजूद डब्ल्यू.आर.एस. के निकट एक नई सुविधा स्थापित करने का प्रस्ताव है। इस परियोजना की अनुमानित लागत 192 करोड़ रुपये होगी।




Source : CMS Team Last Reviewed : 16-11-2022  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.